लखनऊ

गर्मी की शुरुआत होते ही लोकल फॉल्ट के नाम पर बिजली कटौती की असली वजह… हैरानी तो होगी.. 

IMG_COM_20240207_0941_45_1881
IMG_COM_20240401_0936_20_9021
IMG_COM_20240405_0410_12_2691
7290186772562388103

चुन्नीलाल प्रधान की रिपोर्ट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बिजली कटौती ने लोगों की परेशानी बढ़ाना शुरू कर दिया। गर्मी शुरू होते ही प्रदेश में एक बार फिर लोकल फॉल्ट के नाम पर बिजली कटौती शुरू हो गई है, जिसकी वजह से लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आने वाले दिनों में ये दिक्कत और बढ़ सकती है, क्योंकि इस साल गर्मियों में बिजली की डिमांड 31,000 MW के पार जाने की उम्मीद है। ऐसे में बिजली का डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम मांग के मुताबिक मजबूत न होने की वजह से गर्मी बढ़ने पर बिजली कटौती की समस्या और अधिक बढ़ सकती है।

केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में इस साल बिजली की मांग 31,000 MW के पार जा सकती है। प्राधिकरण ने अनुमान लगाया है कि यूपी में सितंबर 2024 में 31,917 MW की मांग हो सकती है। इसी तरह अप्रैल में 25,379 MW, मई में 28,291 MW, जून में 29,853 MW, जुलाई में 30,581 MW, अगस्त में 31,585 MW की बिजली की मांग पहुंचने का अनुमान है।

IMG_COM_20231210_2108_40_5351

IMG_COM_20231210_2108_40_5351

IMG-20240404-WA1559

IMG-20240404-WA1559

IMG_COM_20240417_1933_17_7521

IMG_COM_20240417_1933_17_7521

पावर कॉरपोरेशन ने किया करार

गर्मी में बिजली की बढ़ती मांग को देखते हुए पावर कॉरपोरेशन ने अधिक से अधिक बिजली की उपलब्धता बनाए रखने के लिए कई नए पावर प्लांट शुरू करेगा। वहीं, दूसरी ओर नए विकल्पों पर भी ध्यान दिया है। 

कॉरपोरेशन ने करीब 1000 MW सोलर बिजली के लिए सस्ती दरों पर करार किया है। इसके अलावा बैंकिंग के जरिए भी बिजली ली जाएगी। साथ ही पावर कॉरपोरेशन को उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में 660 MW के दो पावर प्लांटों से बिजली का उत्पादन भी शुरू कर दिया जाएगा।

गर्मियों में बिजली की मांग बढ़ने की एक बड़ी वजह अचानक घरों में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे एसी, फ्रिज, कूलर और पंखा का उपयोग बढ़ जाना है। इस कारण उपभोक्ताओं को भारी-भरकम बिजली के बिल का बोझ उठाना पड़ता है। अगर आप इस बोझ को कम करना चाहते हैं, तो घरों में लगने वाला रूफटॉप सोलर आपके काम आ सकता है। 

सरकार द्वारा शुरू की गई पीएम सूर्य घर योजना के तहत आपको 1.08 लाख रुपये की सब्सिडी मिल सकती है। उपभोक्ता रूफटॉप सोलर पैनल लगवाकर 1.08 लाख रुपये तक की सब्सिडी पा सकते हैं। 

यूपीनेडा के एक अधिकारी के मुताबिक, भारत सरकार की पीएम सूर्य घर योजना के तहत तीन KW तक का रूफटॉप लगवाने पर 78,000 रुपये की सब्सिडी मिलेगी। ये सब्सिडी 2 KW तक 30,000 रुपये प्रति किलोवाट है। इसके बाद तीसरे किलोवॉट में 18,000 रुपये प्रति किलोवाट की सब्सिडी है। ऐसे में कुल मिलाकर 78000 रुपये की सब्सिडी मिलेगी। केंद्र के साथ-साथ यूपीनेडा भी 30,000 रुपये तक की सब्सिडी देता है। 

यूपीनेडा 15,000 रुपये प्रति किलोवाट की सब्सिडी देगा, जो अधिकतम 30,000 रुपये तक की होगी। इस तरह से आपको तीन किलोवॉट का सोलर रूफटॉप लगवाने पर 1.08 लाख रुपये की सब्सिडी मिल जाएगी।

कितने किलोवॉट पर कितना आएगा खर्च

1 KW: 65-70 हजार रुपये

2 KW: 1.20-1.30 लाख रुपये

3 KW: 1.80-2.10 लाख रुपये

5 KW: 2.75-3.00 लाख रुपये

इन बातों का रखें ध्यान

बिजली कनेक्शन है, तभी ले सकेंगे रूफटॉप सोलर का लाभ

इनपैनल्ड वेंडर के जरिए पैनल लगवाने पर ही मिलेगी सब्सिडी

जितना लोड है, उससे अधिक लोड का नहीं लगवा सकते हैं रूफटॉप पैनल

औसतन रोजना 12-15 यूनिट प्रतिदिन बिजली का होगा उत्पादन

एक किलोवाट रूफटॉप लगवाने के लिए चाहिए 80-100 स्क्वॉयर फुट जगह

samachar

"कलम हमेशा लिखती हैं इतिहास क्रांति के नारों का, कलमकार की कलम ख़रीदे सत्ता की औकात नहीं.."

Tags

samachar

"कलम हमेशा लिखती हैं इतिहास क्रांति के नारों का, कलमकार की कलम ख़रीदे सत्ता की औकात नहीं.."
Back to top button
Close
Close