google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
अतर्राबांदा

बाल साहित्य संस्थान अल्मोड़ा द्वारा प्रमोद दीक्षित मलय विशिष्ट अतिथि के रूप में सम्मानित

Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Urdu Urdu

संतोष कुमार सोनी की रिपोर्ट 

अतर्रा(बांदा)। जनपद बांदा के वरिष्ठ साहित्यकार एवं शिक्षाविद् प्रमोद दीक्षित मलय को बाल साहित्य संस्थान अल्मोड़ा, उत्तराखंड एवं बच्चों की पत्रिका बाल प्रहरी द्वारा स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में विशिष्ट अतिथि के रूप में गरिमामय उपस्थिति पर सम्मान पत्र भेंट किया है। जिले के साहित्यकार, शिक्षक एवं मित्रों ने बधाई दी है।

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0106(1)

IMG-20220916-WA0106(1)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

उक्त जानकारी देते हुए शिक्षक एवं साहित्यकार प्रमोद दीक्षित मलय ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव अंतर्गत स्वतंत्रता दिवस पर बाल साहित्य संस्थान अल्मोड़ा उत्तराखंड एवं बाल प्रहरी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 467वें आनलाइन कार्यक्रम ‘अखिल भारतीय कवि सम्मेलन’ में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थिति पर सम्मान पत्र भेंट करते हुए संस्था अध्यक्ष रतन सिंह किरमोलिया एवं सचिव उदय किरौला ने कवि मलय के उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।

उक्त कवि सम्मेलन में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, सिक्किम, पंजाब, तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा, मणिपुर, दिल्ली, उड़ीसा, चंडीगढ़ आदि राज्यों के कवियों ने काव्यपाठ किया। अध्यक्षता भगवती प्रसाद द्विवेदी एवं संचालन बाल साहित्यकार सतीश चंद्र भगत ने किया। मलय के देशभक्ति, राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत गीत ‘भारत माता के वंदन में उपवन महक रहे। कलरव करतीं सरिताएं, नभ पंछी चहक रहे। को खूब सराहा गया।

उल्लेखनीय है कि शिक्षक मलय राष्ट्रीय मंचों पर लगातार अपने गीतों से श्रोताओं द्वारा बहुत पसंद किये जा रहे हैं।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close