google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0  
अंतरराष्ट्रीय

एक भयंकर आवाज और फिर बिछ गई लाशें ; मौत का ऐसा खौफनाक मंजर तस्वीरों में और वीडियो 👇 में आपने देखी नहीं होगी..

एजेंसी आउटपुट के साथ जाहिद अली की रिपोर्ट 

पेशावर । पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पेशावर शहर की एक मस्जिद में सोमवार अपराह्न विस्फोट होने से कम से कम 50 लोग घायल हो गए। समाचार पत्र डॉन ने बचाव अधिकारियों के हवाले से बताया कि यह धमाका पेशावर के पुलिस लाइन्स क्षेत्र में स्थित मस्जिद में हुआ। लेडी रीडिंग अस्पताल के प्रवक्ता मोहम्मद आसिम के मुताबिक घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

IMG_COM_20230602_0658_37_4381

IMG_COM_20230602_0658_37_4381

IMG_COM_20230602_1933_40_4331

IMG_COM_20230602_1933_40_4331

डॉन ने आसिम के हवाले से कहा कि क्षेत्र को पूरी तरह सील कर दिया गया है और वहां सिर्फ एंबुलेंस प्रवेश कर सकती हैं। टीवी रिपोर्टों के अनुसार यह विस्फोट करीब एक बजकर 40 मिनट पर हुआ, जब ज़ुहर की नमाज़ अदा की जा रही थी। गौरतलब है कि पेशावर में पिछले साल भी इसी तरह की घटना हुई थी जब कोचा रिसालदार क्षेत्र की शिया मस्जिद में आत्मघाती हमले में 56 लोगों की जान गयी थी।

 

मस्जिद में हुए धमाके के बाद की ये तस्वीर सामने आई।
हमले के बाद रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। मस्जिद से कई शवों को बाहर निकाला गया।
हमले के बाद रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। मस्जिद से कई शवों को बाहर निकाला गया।
ये मस्जिद के एक हिस्से की फोटो है। यहां मलबा साफ नजर आता है।
ये मस्जिद के एक हिस्से की फोटो है। यहां मलबा साफ नजर आता है।
मलबे में दबे लोगों को खोज की गई। मशीनों के जरिए मलबे को साफ किया गया।
मलबे में दबे लोगों को खोज की गई। मशीनों के जरिए मलबे को साफ किया गया।
ब्लड डोनेशन की अपील
 
सभी घायलों का इलाज पेशावर के लेडी हार्डिंग अस्पताल में चल रहा है। अस्पताल की तरफ से जारी बयान में कहा गया- आम लोग जितना हो सके, उतनी जल्दी ब्लड डोनेट करने अस्पताल पहुंचें। मिलिट्री डॉक्टरों का एक दल भी अस्पताल पहुंचा।

पाकिस्तान के पेशावर शहर में सोमवार को पुलिस लाइन्स में बनी मस्जिद में फिदायीन हमला हुआ। 61 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है। 157 लोग घायल हैं। इनमें से 47 की हालत गंभीर है। ब्लास्ट इतना ताकतवर था कि करीब दो किलोमीटर तक इसकी आवाज सुनाई दी। मस्जिद का एक बड़ा हिस्सा ढह गया। इमाम नूर-अल अमीन की भी मौत हो गई। पाक पीएम शाहबाज शरीफ ने अस्पताल पहुंचकर घायलों से मुलाकात की है।

एक चश्मदीद ने कहा- दोपहर की नमाज के वक्त मस्जिद में करीब 500 लोग मौजूद थे। फिदायीन हमलावर बीच की एक लाइन में मौजूद था। यह साफ नहीं हो सका कि वो पुलिस लाइन्स पहुंचा कैसे, क्योंकि अंदर जाने के लिए गेट पास दिखाना होता है।

सबसे पहले धमाके की तस्वीरें देखें…

मस्जिद में हुए धमाके के बाद की ये तस्वीर सामने आई।
मस्जिद में हुए धमाके के बाद की ये तस्वीर सामने आई।
हमले के बाद रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। मस्जिद से कई शवों को बाहर निकाला गया।
हमले के बाद रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। मस्जिद से कई शवों को बाहर निकाला गया।
ये मस्जिद के एक हिस्से की फोटो है। यहां मलबा साफ नजर आता है।
ये मस्जिद के एक हिस्से की फोटो है। यहां मलबा साफ नजर आता है।
मलबे में दबे लोगों को खोज की गई। मशीनों के जरिए मलबे को साफ किया गया।
मलबे में दबे लोगों को खोज की गई। मशीनों के जरिए मलबे को साफ किया गया।

TTP ने जिम्मेदारी ली

पाकिस्तानी मीडिया जियो न्यूज के मुताबिक, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। आर्मी ने इलाके को घेर लिया। इसके करीब ही आर्मी की एक यूनिट का ऑफिस भी है। इलाके में TTP का खासा दबदबा है और पिछले दिनों इसी संगठन ने हमले की धमकी भी दी थी।

धमाके के बाद अफरा-तफरी मच गई। लोगों को मस्जिद के बाहर भागते देखा गया।
धमाके के बाद अफरा-तफरी मच गई। लोगों को मस्जिद के बाहर भागते देखा गया।
धमाके में घायल हुए लोगों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया।
धमाके में घायल हुए लोगों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया।
हेल्थ डिपार्टमेंट ने पेशावर जिले के सभी डॉक्टर्स और सपोर्ट स्टॉफ के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।
हेल्थ डिपार्टमेंट ने पेशावर जिले के सभी डॉक्टर्स और सपोर्ट स्टॉफ के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

पिछले साल शिया मस्जिद में हुआ था धमाका

पेशावर में पिछले साल मार्च में एक शिया मस्जिद में धमाका हुआ था। तब हमले में 62 लोग मारे गए थे। ये सभी शिया समुदाय के लोग थे। धमाके के वक्त मस्जिद में जुमे की नमाज चल रही थी। इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट खोरासान ग्रुप (IS-KP) ने ली थी।

9 साल पहले हुआ था आर्मी स्कूल पर हमला

16 दिसंबर 2014 को पेशावर के आर्मी पब्लिक स्कूल पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें 148 लोग मारे गए थे। इनमें 141 स्कूली बच्चे थे। TTP ने हमले की जिम्मेदारी ली थी। बाद में साजिश रचने वाले चार आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था। संगठन का प्रवक्ता भी गिरफ्तार हुआ था। हैरानी की बात अहसान उल्ला नाम का यह प्रवक्ता बेहद रहस्यमयी तरीके से फौज की गिरफ्त से बड़े आराम से फरार हो गया था। बाद में उसने खुद कहा था कि फौज ने ही उसे रिहा किया था।

TTP के निशाने पर पाकिस्तान

पाकिस्तान में TTP के हमले लगातार तेज होते जा रहे हैं। इनकी जद में राजधानी इस्लामाबाद भी आ गई है। पिछले महीने इस्लामाबाद में एक फिदायीन हमला हुआ था। इसमें एक पुलिस अफसर मारा गया था और 6 लोग घायल हो गए थे। इसके बाद शाहबाज शरीफ ने कैबिनेट मीटिंग बुलाई थी। मीटिंग के बाद होम मिनिस्टर राणा सनाउल्लाह ने कहा था- पाकिस्तान अपनी हिफाजत के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। अगर अफगानिस्तान की तालिबान हुकूमत ने TTP को नहीं रोका तो हम अफगानिस्तान में घुसकर इन आतंकियों को मारेंगे।

दिसंबर 2022 में तालिबान ने पाकिस्तान में दो बड़े हमले किए थे। 12 लोग मारे गए थे।
दिसंबर 2022 में तालिबान ने पाकिस्तान में दो बड़े हमले किए थे। 12 लोग मारे गए थे।

अफगानिस्तान-पाकिस्तान में जबरदस्त तनाव

TTP को लेकर अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच तनाव बेहद खतरनाक रूप लेता जा रहा है। दोनों देशों के बीच डूरंड लाइन पर तमाम एंट्री और एग्जिट पॉइंट बंद किए जा चुके हैं। हालात ये हैं कि दो महीनों में दोनों देशों के बीच फायरिंग में करीब 16 पाकिस्तानी सैनिक मारे जा चुके हैं।

पाकिस्तान सरकार हमलों के लिए TTP को जिम्मेदार बताती है। राणा सनाउल्लाह की धमकी का जवाब तालिबान के सीनियर लीडर और उप-प्रधानमंत्री अहमद यासिर ने सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयर करके दिया था। पहले इस फोटो के बारे में जान लीजिए।

यह फोटो 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच जंग की है। पाकिस्तानी सेना की करारी शिकस्त हुई थी। उसके 90 हजार से अधिक सैनिकों ने सरेंडर किया था। सरेंडर डॉक्यूमेंट पर पाकिस्तान की तरफ से लेफ्टिनेंट जनरल आमिर अब्दुल्लाह खान नियाजी ने दस्तखत किए थे। उनके ठीक बगल में मौजूद थे हमारी सेना के लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा। इसी सरेंडर के बाद बांग्लादेश एक अलग मुल्क बना था और पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए थे।

उप-प्रधानमंत्री अहमद यासिर ने इस फोटो के साथ उर्दू में एक कैप्शन शेयर किया। इसमें कहा- राणा सनाउल्लाह, जबरदस्त। भूलिए मत कि ये अफगानिस्तान है। ये वो अफगानिस्तान है जहां बड़ी-बड़ी ताकतों की कब्रगाहें बन गईं। हम पर फौजी हमले का ख्वाब मत देखिए, वरना अंजाम उतना ही शर्मनाक होगा जितना भारत के सामने आपका हुआ था।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: