अजब-गजब

जब अचानक पहाड़ से गिरने लगा मलबा और भागने लगे लोग… : वीडियो ? देखकर सहम जाएंगे आप 

IMG_COM_20240609_2159_49_4292
IMG_COM_20240609_2159_49_3211
IMG_COM_20240609_2159_49_4733
IMG_COM_20240609_2141_57_3412
IMG_COM_20240609_2159_49_4733

मनोज उनियाल की रिपोर्ट 

भूस्खलन का एक खतरनाक मंजर कैमरे में कैद हो गया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब देखा जा रहा है। इसे ट्विटर पर ‘शुभम’ (@shubhamtorres09) नाम के यूजर ने पोस्ट किया और लिखा- हिमाचल प्रदेश में भूस्खलन के कारण मंडी और पंडोह के बीच 7 मील पर सड़क बंद। इस क्लिप को खबर लिखे जाने तक साढ़े तीन हजार व्यूज और सैकड़ों लाइक्स मिल चुके हैं। इस क्लिप को देख एक यूजर ने लिखा- जान बचाओ पहले भाई… एक दिन वीडियोग्राफी के चक्कर में जान से जाएंगे लोग कसम से। वहीं दूसरे ने लिखा कि यहीं में बस में फंसा हुआ हूं। कुछ लोग तो इस लैंडस्लाइड को देखकर घबरा गए।

 

IMG_COM_20231210_2108_40_5351

IMG_COM_20231210_2108_40_5351

 

यह वीडियो क्लिप 15 सेकंड का है, जिसमें हम देख सकते हैं कि कुछ लोग वीडियो बना रहे होते हैं कि तभी पहाड़ धसकने लगता है और तेजी से छोटे-बड़े पत्थर नीचे गिरने लगते हैं। लोग अपनी जान बचाने के लिए तेजी से भागते हैं। यह भूस्खलन इतना जोरदार होता है कि मलबे का पहाड़ और धूल का धुंआ सड़क को गायब कर देता है। गनीमत रही कि जब भूस्खलन हुआ तो कोई वाहन उसकी चपेट में नहीं आया। हालांकि, जैसे ही दौड़कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचे हैं तो फिर से वीडियो बनाने के काम में जुट जाते हैं।

आए दिन होते हैं भूस्खलन!

रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना नैशनल हाईवे चंडीगढ़-मनाली पर मंडी में 5 मील के पास हुई। अचानक पहाड़ी से मलबा गिरने के कारण रास्ता बंद हो गया। बताया गया कि इस रास्ते पर फोरलेन निर्माण का काम चल रहा है, जिसके चलते आए दिन भूस्खलन होता रहता है।

केएमसी कंपनी के सेफ्टी इंजीनियर कमल गौतम ने बताया कि पहाड़ी से मलबा लगभग 8 बजे के करीब एकाएक आ गिरा। समय रहते खतरे को भांप लिया था। ऐसे में लोगों को और ट्रैफिक को रोक दिया गया था।

samachar

"कलम हमेशा लिखती हैं इतिहास क्रांति के नारों का, कलमकार की कलम ख़रीदे सत्ता की औकात नहीं.."

Tags

samachar

"कलम हमेशा लिखती हैं इतिहास क्रांति के नारों का, कलमकार की कलम ख़रीदे सत्ता की औकात नहीं.."
Back to top button

Discover more from Samachar Darpan 24

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

Close
Close