google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
मध्य प्रदेशरतलाम

पैंतीस से आगे की गिनती नहीं सुना पाई तो शिक्षक ने बच्ची पर बरसा दिया थप्पड़; देखिए वीडियो 👇

Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Urdu Urdu

पुनीत नौटियाल की रिपोर्ट 

रतलाम में प्राइमरी स्कूल की छात्राओं को टीचर ने बेरहमी से पीट दिया। टीचर ने छात्राओं को गिनती बोलने के लिए पास बुलाया, जब वे 35 के आगे गिनती नहीं बोल पाईं तो उन्हें तड़ातड़ थप्पड़ मारे। पीड़ित दोनों छात्राओं की उम्र 8 से 9 साल है। पिटाई के 2 वीडियो सामने आए हैं। क्लास में 12 से 15 छात्राएं दिखाई दे रही हैं। वीडियो वायरल होने के बाद अधिकारी, टीचर पर कार्रवाई करने की बात कर रहे हैं। इधर, टीचर का कहना है कि मैंने सोच-समझकर या किसी बदले की भावना से मारपीट नहीं की थी।

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0106(1)

IMG-20220916-WA0106(1)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

कन्या विद्यालय के शिक्षक ने की पिटाई

सामने आए वीडियो में से एक वीडियो 57 और दूसरा 32 सेकेंड का है। पिपलोदा के BEO शक्ति सिंह परिहार और BRC विनोद शर्मा ने जांच शुरू कर दी है। प्रारंभिक जांच में पता चला कि पिटाई कर रहा टीचर जावरा के समीप गांव मामटखेड़ा शासकीय कन्या प्राथमिक विद्यालय का जेके मोगरा है। SDM हिमांशु प्रजापति ने बताया, वीडियो कब का है, इसकी जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद टीचर पर कार्रवाई की जाएगी।

35 के आगे गिनती नहीं आई, इसलिए पीटा: छात्रा

छात्रा महिमा और शिवांशी ने जांच करने आए BEO को बताया कि 35 के आगे की गिनती नहीं आ रही थी। इसलिए सर ने मारा। महिमा के पिता रामेश्वर मालवीय ने बताया हमें बाद में पता चला कि सर ने इस तरह से मारा। पढ़ाई नहीं करने पर डराना ठीक है, लेकिन इस तरह मारपीट गलत है। हम भी इसकी शिकायत करेंगे।

 

सोमवार को देंगे जांच प्रतिवेदन

पिपलौदा BEO शक्ति सिंह डोडिया ने कहा कि बच्चियों और स्टाफ के बयान लेकर प्रतिवेदन तैयार कर रहे हैं। सोमवार को वरिष्ठ अधिकारियों और SDM को प्रतिवेदन भेज देंगे, वहीं से आगे की कार्रवाई होगी।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close