google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
कुल्लूहिमाचल

यह मिथक नहीं सौ फीसदी सच है कि इस गांव में पांच दिन महिलाएं नहीं पहनती हैं कपड़े, पढ़िए क्या है वजह

Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Urdu Urdu

मनोज उनियाल की रिपोर्ट

कुल्लू। भारत ऐसा देश है जहाँ कुछ मीलों की दूरी पर ही बोली और पानी भी बदल जाती है। तभी तो एक कहावत भी प्रचलित हो गयी है “कोस-कोस पर बदले पानी ढाई कोस पर वाणी”। यहाँ ऐसी कई परंपराएं हैं, जिन्हें जानकर आप हैरान हो जाएंगे। सुनने में भले ही आपको अजीब लगे, लेकिन इन पांच दिनों में वो बिना कपड़ों के ही रहती है। ऐसा सालों से चलता आ रहा है और वो इसे अभी भी निभा रही है।

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0106(1)

IMG-20220916-WA0106(1)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

हम बात कर रहे हैं हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में पीणी गांव की। जी हां, यह सच है कि इस गांव में साल में 5 दिन औरते कपड़े नहीं पहनती। इस परंपरा की खास बात यह हैं कि वह इस समय पुरुषों के सामने नहीं आती। यहां तक की महिला के पति भी अपन पत्नी को 5 दिनों तक बात नही कर सकते और न ही पत्नी को छू पायेगा। अगर ऐसे करेगा तो उनकी तभाही निश्चित मानी जाती है।

सावन में निभाई जाती है यह परंपरा

इस गांव की यह अजीबोगरीब परंपरा सावन के महीने में निभाई जाती है। मान्यता है कि इन पांच दिनों में अगर कोई भी महिला कपड़े पहनती है तो उसके घर में कुछ अशुभ हो सकता है और अप्रिय समाचार सुनाई पड़ सकता है। वर्षों से चली आ रही इस परंपरा को गांव के प्रत्येक घर में निभाया जाता है।

वक्त के साथ हुए हैं बदलाव

हालांकि वक्त के साथ कुछ चीजों में बदलाव किया गया है। अब इस परंपरा को निभाने के लिए महिलाएं पांच दिनों तक कपड़े नहीं बदलती हैं और बेहद ही पतला कपड़ा पहनती हैं। पहले महिलाएं पांच दिनों तक निर्वस्त्र रहती थीं। इन पांच दिनों में गांव के अंदर मांस-मदिरा का सेवन बंद हो जाता है। साथ ही किसी तरह का जश्न, कार्यक्रम और यहां तक कि हंसना भी बंद कर दिया जाता है। महिलाएं इन दिनों खुद को समाज से बिल्कुल अलग कर लेती हैं।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close