google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
ग्वालियरमध्य प्रदेश

34 अरब 19 करोड़ 53 लाख 25 हजार 293 रुपए का बिजली बिल जब मिला इस महिला को तो पढ़िए फिर क्या हुआ?

Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Urdu Urdu

पुनीत नौटियाल की रिपोर्ट 

ग्वालियर: महंगाई ने वैसे ही आम आदमी की कमर तोड़ कर रख दी है। ऐसे में बिजली बिल देखकर वैसे ही टेंशन बढ़ जाती है। लेकिन यदि यही बिल हजारों लाखों या करोड़ों में नहीं बल्कि अरबों रुपए में आ जाए तो सोचो क्या होगा? हर कोई इस स्थिति को अच्छे से समझ सकता है कि हालत खराब हो जाएगी। ग्वालियर में कुछ ऐसी ही हालत एक उपभोक्ता की हुई जहां बिजली बिल देखते ही उसकी तबीयत बिगड़ गई। वहीं उसके ससुर को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0119

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0117

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0116

IMG-20220916-WA0106(1)

IMG-20220916-WA0106(1)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

DOC-20220919-WA0001.-1(6421405624112)

जी हां बेहद हैरान कर देने वाला यह मामला मध्य प्रदेश के ग्वालियर से सामने आया है। जहां शहर के पॉश इलाके सिटी सेंटर में मेट्रो टॉवर के पीछे शिव बिहार कॉलोनी में रहने वाले संजीव गुप्ता के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ।

संजीव कनकने पेशे से वकील हैं और उनकी पत्नी प्रियंका ग्रहणी हैं। संजीव बताते हैं कि इस बार उनका बिजली का बिल 34 अरब 19 करोड़ 53 लाख 25 हजार रुपये आया है। जिसे देखकर उनकी पत्नी प्रियंका का बीपी बढ़ गया और उनके पिता राजेंद्र प्रसाद गुप्ता जो हार्ट पेशेंट हैं ब्लड प्रेशर बढ़ने के चलते अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। हालांकि बिजली बिल को लेकर उन्होंने शिकायत की तो कई दफतरों के कई चक्कर काटने के बाद बिजली बिल की समस्या तो हल हो गई। बिजली कंपनी ने उनका बिजली बिल संशोधित कर दिया है। नया बिल महज 1300 रुपये के लगभग आया है। बिजली कंपनी के महाप्रबंधक ने मामले को लेकर कहा है कि ये मानवीय भूल है और सबंधित अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की गई है। वहीं ऊर्जा मंत्री प्रधुम्न सिंह तोमर ने मामले को लेकर बेहद चौंकाने वाला जवाब दिया। उन्होंने कहा कि बिल तुरंत सुधारा गया है। इस पर कार्रवाई भी की जाएगी। लेकिन सवाल यह है कि यदि बिजली विभाग की इस गलती के कारण उपभोक्ता पक्ष में किसी सदस्य की जान चली जाती तो जिम्मेदार कौन होता?

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close