google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
Gonda

हाय दादा ई किल्लत है खादिक…., यह नजारा बयां करता है खाद क्रय केन्द्र की हकीकत, वीडियो 👇 देखिए

Bengali Bengali English English Hindi Hindi Marathi Marathi Nepali Nepali Punjabi Punjabi Urdu Urdu

आर के मिश्रा की रिपोर्ट

IMG_COM_20230101_1903_19_5581

IMG_COM_20230101_1903_19_5581

IMG_COM_20230103_1524_36_3381

IMG_COM_20230103_1524_36_3381

IMG_COM_20230123_0822_44_9741

IMG_COM_20230123_0822_44_9741

IMG_COM_20230125_1248_01_6843

IMG_COM_20230125_1248_01_6843

IMG_COM_20230125_1248_01_6282

IMG_COM_20230125_1248_01_6282

IMG_COM_20230125_1248_01_4351

IMG_COM_20230125_1248_01_4351

IMG_COM_20230126_0527_42_0971

IMG_COM_20230126_0527_42_0971

गोण्डा। जनपद गोण्डा अन्तर्गत विकास खण्ड परसपुर क्षेत्र में धान फसल सहेजने के बाद किसान अब गेंहू की बुवाई को जुट गया है। खेतों की जुताई, समतल एवम् खेती किसानी में दिन रात मेहनत कर रहा है। उन्नतिशील गेंहू बीज, उर्वरक प्रबंधन को लेकर किसान की खेती का उपयुक्त समय है।

गेंहू बुवाई के समय खेतों में उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिए उर्वरक यूरिया, डीएपी, जिंक, सल्फर, पोटाश आदि की खरीददारी को किसान जुटा हुआ है। गेंहू बीज के लिए बीज गोदाम एवम् उर्वरक के लिए किसान सहकारी समिति के गोदाम उर्वरक वितरक केंद्रों का चक्कर काट रहा है। इसके लिए उर्वरक पाने के लिए किसान सुबह से ही पक्तियों में जुट रहा है।

गेंहू बुवाई में आवश्यक उर्वरक की मात्रा उपयोग करने के लिए किसान को बड़े ही जद्दोजहद के बाद उर्वरक उपलब्ध हो पा रही है। हालांकि उर्वरक वितरण केन्द्र गोदामों पर उपलब्ध उर्वरक स्टॉक के अनुसार वितरण प्रणाली अपनाई जा रही है।

 

किसान शेषदत्त शुक्ला का कहना है खाद चाहिए तो आधी रात में आकर लाईन लगाओ,नही तो मिलेगा बाबाजी का ठेंगा।उन्होंने कहा कि गेंहू बुवाई का उपयुक्त समय नवंबर माह के अंतिम समय बीत रहा है। ऐसे में उर्वरक पाने के लिए सहकारी समिति के उर्वरक वितरण स्थल पर घंटों लाइन लगानी पड़ रही है। तब भी राम भरोसे है कि डीएपी मिलेगी या नही कोई गारण्टी नही है।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: