google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
संपादकीय

टमाटर की लाली पर मंहगाई के काले बादल

अनिल अनूप

रंग में लाल, खाने को लजीज बनाने वाले और भारतीय सब्जी की तरी को क्लासिक बनाने वाले टमाटरों की महंगाई हर आदमी की जुबान पर है। देश की अधिकांश जगहों पर सर्दियों के दिनों में टमाटर के भाव 10 से 20 रुपए प्रति किलो तक होते हैं, लेकिन इस साल कुछ शहरों में टमाटर के भाव आसमान छू रहे हैं। कई जगहों पर खुदरा बाज़ार में इसकी क़ीमतें 80 रुपए प्रति किलो से ऊपर हैं। कुछ दक्षिण भारतीय शहरों में तो क़ीमतें 120 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई थीं।कहा जा रहा है कि बारिश के कारण टमाटर की सप्लाई बाधित हुई है जिसके कारण इसकी क़ीमतें बढ़ रही हैं। कर्नाटक का कोलार भी टमाटर के लिए जाना जाता है और देश भर में अधिकतर टमाटर कोलार से ही जाते हैं। या यह कहें कि नासिक और कोलार तो ऐसे हब हैं जो देश में टमाटर की जरूरत को पूरा करते हैं। ऐसे में क्या कारण है कि सोने की खान के लिए मशहूर कोलार में इन दिनों टमाटर सोने के भाव बिक रहा है? हिमाचल प्रदेश में भी पिछले वर्ष सब्जी मंडी सोलन में साढ़े सात लाख टमाटर क्रेट से तीन अरब 75 करोड़ का कारोबार हुआ था, जबकि इस बार साढ़े छह लाख क्रेट से एक अरब 95 करोड़ का ही कारोबार हो सका है। यानी, इस बार पिछले वर्ष की तुलना में कारोबार पौने दो अरब रुपए कम हुआ है। टमाटर विश्व में सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाली सब्जी है। इसका पुराना नाम लाइकोपोर्सिकान एस्कुलेंटम मिल है। वर्तमान समय में इसे सोलेनम लाइको पोर्सिकान कहते हैं। बहुत से लोग तो ऐसे हैं जो बिना टमाटर के खाना बनाने की कल्पना भी नहीं कर सकते। इसकी उत्पत्ति दक्षिण अमेरिकी ऐन्डीज़ में हुई।

मैक्सिको में इसका भोजन के रूप में प्रयोग आरंभ हुआ और अमेरिका के स्पेनिस उपनिवेश से होते हुए विश्वभर में फैल गया। टमाटर का पौधा दक्षिण अमरीका से दक्षिणी यूरोप होता हुआ इंग्लैंड पहुंचा था। 16वीं शताब्दी में इसे अंग्रेज भारत लाए थे। तबसे यह लोगों के जायके को बदल रहा है। स्वादिष्ट टमाटर से जुड़ा अर्थशास्त्र पेचीदा है। टमाटर के दाम कैसे तय होते हैं, कैसे उतार-चढ़ाव आता है? क्या दाम बढ़ने पर किसान का मुनाफा भी बढ़ जाता है, घटने पर घट जाता है? ये सब समझना होगा। मान लें एक किलो टमाटर को प्रोड्यूस करने की लागत आती है करीब तीन रुपए, लेकिन थाली तक जो टमाटर पहुंचता है, उसकी लागत हो जाती है करीब 6 से 7 रुपए। ट्रांसपोर्ट और टमाटर के लॉस (टूट-फूट) को मिलाकर। फिर रिटेलर से लेकर ठेले वाले तक का मार्जिन जुड़ता है। फिर भी टमाटर अगर आपको 9-10 रुपए में भी मिल रहा है, तो मान लीजिए पूरी-पूरी लागत तो निकल ही रही है। लेकिन बीच में ट्रेडर्स लॉबी कुछ फसलों में काफी सक्रिय रहती है। यही वजह है कि टमाटर में ज़रा भी सप्लाई कम हुई तो दाम बहुत ज़्यादा ऊपर-नीचे हो जाते हैं। रिसर्च बताती है कि टमाटर का उत्पादन पांच फीसदी बढ़ता है तो दाम 50 फीसदी गिर जाते हैं। ये स्टॉक मार्केट जैसा है। लेकिन हमारे यहां के सप्लाई चेन में दाम बढ़ने से किसान के पास मुनाफे का बड़ा हिस्सा आता ही नहीं है। सीधे खेत से उपभोक्ता तक फसल की थ्योरी अभी भी अमल में नहीं आ पाई है। इसलिए सब्जी का दाम बढ़ने पर भी किसान के हिस्से में बहुत कम ही मुनाफा आ पाता है। टमाटर की ही बात करें, तो इसकी खेती लागत भी बढ़ी है क्योंकि कीटनाशक का खर्चा काफी बढ़ गया है।

तमाम पुराने कीड़ों ने पुरानी दवाइयों से प्रतिरोधक क्षमता डेवलप कर ली है। अब वो उससे मरते ही नहीं। किसान को नए किस्म के कीटनाशक लाने पड़ रहे हैं। एक कीटनाशक का दाम तो 550 से 600 रुपए प्रति 60 ग्राम है। सोचिए किसान की लागत कहने को तो लोग 2-3 रुपए प्रति किलो बताते हैं, लेकिन ये सारी लागत जोड़ना भी ज़रूरी है। टमाटर के व्यापार से जुड़ी आर्थिकता बताती है की आमतौर पर टमाटर अच्छा भाव हो, तब भी 300 रुपए प्रति क्रेट बिकता है। एक क्रेट में 25 किलो टमाटर होते हैं। इस समय एक क्रेट टमाटर एक हज़ार रुपए से लेकर 1400 रुपए तक बिक रहे हैं। सर्दियों में कभी टमाटर के दाम इतने ऊंचे नहीं गए हैं। ये समय आते-आते तो दस रुपए प्रति किलो तक टमाटर बिकना मुश्किल हो जाता था, क्योंकि पैदावार बंपर होती थी। इस बार बारिश ने फसल ख़राब कर दी है। मंडी में माल नहीं है। इसलिए मांग बहुत ज़्यादा है। टमाटर की खेती करना आसान नहीं है। लागत बहुत लगानी पड़ती है। एक बीघा खेत में बीस हज़ार रुपए तक की लागत आ जाती है। ऐसे में किसान को दाम न मिले तो भारी नुक़सान होता है। नवंबर के पहले सप्ताह में बारिश होने की वजह से फसलें प्रभावित हुई हैं जिसकी वजह से दाम बढ़े हुए हैं। दाम बढ़ने की एक वजह परिवहन में देरी, डीज़ल के महंगे दामों को भी माना जा रहा है। भारी बारिश की वजह से तमिलनाडु, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में बारिश ने फसलों को ख़राब कर दिया है। इसकी वजह से आपूर्ति प्रभावित हुई है। एक तरफ जहां टमाटर के दाम बढ़ने से उपभोक्ताओं पर मार पड़ रही है, वहीं किसानों ने कुछ राहत की सांस ली है। दरअसल बेमौसम हुई बरसात ने टमाटर की फसल को ख़राब कर दिया था जिससे किसानों को भारी नुक़सान हुआ।

 बंगाल की खाड़ी में कम दबाव के क्षेत्रों के बार-बार बनने या अरब सागर में चक्रवात के कारण नवंबर के पहले सप्ताह से पूर्वोत्तर मानसून के दौरान भारी बारिश के कारण टमाटर की फसल को नुकसान हुआ है, जिससे टमाटर की फसल खराब हो गई और आपूर्ति बाधित हुई। दक्षिण भारत में जबरदस्त बारिश होने से टमाटर को लेकर यह संकट आया है। आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में टमाटर की खेती वाले इलाके बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए हैं और देरी भी हुई है। आम तौर पर टमाटर की फसल बोने के लगभग दो से तीन महीने बाद कटाई के लिए तैयार हो जाती है। ऐसा माना जा रहा है कि अभी तक आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और कर्नाटक सहित टमाटर की खेती करने वाले प्रमुख राज्यों में कटाई चल रही है। इसके सप्लाई में आते ही परचून में टमाटर के दाम जायज हो सकते हैं। सरकार ने लोगों की चिंताओं के बीच कहा है कि देश के उत्तरी राज्यों से टमाटर की नई फसल की आवक के साथ दिसंबर से इसके भाव नरम पड़ने की उम्मीद है। टमाटर का अखिल भारतीय औसत खुदरा मूल्य बेमौसमी बारिश के कारण पिछले वर्ष की तुलना में 63 प्रतिशत बढ़कर 67 रुपए प्रति किलो होने के साथ सरकार का यह बयान आया है। वहीं प्याज के मामले में, खुदरा कीमतें वर्ष 2020 और वर्ष 2019 के स्तर से काफी नीचे आ गई हैं। इस साल नवंबर में आवक 19.62 लाख टन थी, जो एक साल पहले की समान अवधि में 21.32 लाख टन थी। टमाटर की कीमतों में तेज वृद्धि देश भर के घरों के लिए एक बड़ा झटका है, क्योंकि आम आदमी का बजट पहले ही महंगाई से बढ़ा है। कुल मिला कर टमाटर की बेलगाम कीमतों ने इस समय आम आदमी का घरेलू बजट बिगाड़ दिया है।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close