google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
औरंगाबादबिहार

लेखक अचल की एक साथ तीन पुस्तकों का विमोचन

वीरेंद्र कुमार खत्री की रिपोर्ट

हसपुरा/औरंगाबाद। औरंगाबाद जिले के हसपुरा प्रखंड मुख्यालय स्थित कौशल विकास केन्द्र के सभाकक्ष में रविवार को लेखक व साहित्यकार प्रो. अलखदेव प्रसाद’अचल’ की एक साथ तीन पुस्तकें ‘संघर्ष जारी रहेगा’ (हिन्दी उपन्यास), तेजू ( मगही उपन्यास) एवं ‘चमचागिरी का चार्मिंग’ (हिन्दी व्यंग्य संग्रह) का लोकार्पण किया गया। अध्यक्षता पूर्व प्रमुख आरिफ रिजवी और संचालन निदेशक शंभू शरण ‘सत्यार्थी’ ने की। 

तीनों पुस्तकों का लोकार्पण सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं पटना के रंगकर्मी अनीश अंकुर, सत्येन्द्र कुमार, डा. हरेराम सिंह, डा. गजेन्द्र कुमार शर्मा एवं आरिफ रिजवी ने संयुक्त रूप से किया। सभी अतिथियों का स्वागत और सम्मानित करते हुए लेखक ने अपनी रचनाशीलता को लोगों के समक्ष साझा किया। 

पटना के रंगकर्मी अनीश अंकुर ने कहा कि लेखक का उपन्यास जहां आज की व्यवस्था के खोखलेपन को दर्शाता है, वहां प्रतिक्रियावादी तत्त्वों पर प्रहार करता है। जिसे वर्त्तमान परिवेश का दस्तावेज माना जाना चाहिए। 

वरिष्ठ कवि सत्येन्द्र कुमार ने कहा कि उपन्यासों में राजनीतिक परिपक्वता स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ है। इनके उपन्यास के नायक सीधा फासीवादी ताकतों से टकराते दिखता हैं। इनके उपन्यासों के पात्र कोई न कोई समस्याओं से टकराते नजर आते हैं।  

डा. हरेराम सिंह ने कहा कि पूंजीवादी समाज में लेखक का उपन्यास वैसा मसाल की तरह है, जो अंधकार में रौशनी प्रदान करता है। इनके उपन्यास के नायक किसानों और मजदूरों के लिए आदर्श साबित होता है। 

डा. गजेन्द्र शर्मा ने कहा कि अपनी रचनाओं में आज के अन्तर्विरोधों को जो साधने का प्रयास किया है, वह काबिले तारीफ है। उन्होंने कहा कि साम्प्रदायिकता से कम खतरनाक जाति प्रथा नहीं है। 

श्री श्रवण कुमार बीएड कॉलेज के निदेशक विपिन कुमार रंजन, हेडमास्टर कुलदीप चौधरी, विजय कुमार अकेला, बंगाली सिंह, राजेश कुमार विचारक, देव बाबू, रविनंदन प्रसाद, ललन सिंह, सन्नाउल्लाह रिजवी, शाहबाज मिन्हाज, कामाख्या नारायण सिंह, राजेन्द्र प्रसाद सिंह, श्रीनिवास मंडल, अंबुज कुमार, योगेन्द्र कुमार सिन्हा अतेन्द्र कुमार कुशवाह, गौतम कुमार, मनोज मंजुल सहित कई लोगों पुस्तकों की विशेषताओं पर प्रकाश डाला।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close