google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
अलीगढ़उत्तर प्रदेश

कहने को दिव्यांग है लेकिन जीने का जज्बा देखिए… पढ़िए पूरी खबर

रेखा गुप्ता की रिपोर्ट

अलीगढ़। अगर व्यक्ति में कुछ कर गुजरने की इच्छा है तो विषम परिस्थिति में भी अपना रास्ता तलाश ही लेता है। आज आपको ऐसे ही व्यक्ति से रूबरू कराने जा रहे हैं। जिसकी जीवटता एक मिसाल है। अलीगढ़ के अतरौली के लोधा नगला का रहने वाले नरेश एक पैर से पूरी तरह दिव्यांग है, लेकिन फर्राटे से साइकिल चलाते हैं। उनकी साइकिल की रफ्तार देखने वालों को चकित कर देती है। रामघाट रोड पर उन्हें साइकिल चलाते देखा जा सकता है। वे तालानगरी में एक फैक्ट्री में काम करते हैं। रोजाना 40 किलोमीटर साईकल चलाकर आना जाना करते हैं।
PunjabKesari
एक पेंडल पर डंडे के सहारे से चलाते हैं साइकिल
नरेश दिव्यांग होने के बावजूद आत्मनिर्भर हैं और कहीं भी जाना होता है तो वह साइकिल पर चढ़कर हवा से बात करते हैं। नरेश ताला नगरी में एक फैक्ट्री में मजदूरी करते हैं और रोज अतरौली से 20 किलोमीटर दूर लंबा सफर साइकिल से ही तय करते हैं। रोजोना 40 किलोमीटर की दूरी तयकर नरेश साइकिल से ही घर को पहुंचते हैं। साइकिल पर ही एक पेंडल पर डंडे के सहारे से चलाते हैं और इनको रोड पर साइकिल चलाते देख लोगों की नजर इन पर टिक जाती है। एक दुर्घटना में उन्हें अपने पैर गंवाने पड़े, लेकिन हार नहीं मानी। दिव्यांगती को अपने हौसलों से पस्त कर दिया, लम्बी दूरी तय कर फैक्ट्री जाते है और काम कर नरेश आत्म निर्भर है।
PunjabKesari
आम आदमी से भी तेज साइकिल चलाने की क्षमता रखते हैं दिव्यांग नरेश
नरेश इस कारनामें को देखकर लोग हैरान हो जाते हैं। निश्चित ही नरेश से लोगों को प्रेरणा मिलती है। एक पैर से दिव्यांग होने के बावजूद नरेश परिवार पर बोझ नहीं है। एक आम आदमी से भी तेज साइकिल चलाने की क्षमता नरेश रखते हैं। प्रतिदिन नरेश घर से साइकिल चलाकर फैक्ट्री पहुंचते हैं और फिर फैक्ट्री से घर को आते हैं। दिव्यांग होने के बावजूद जीवन में निराशा नहीं आने दी। नरेश से प्रेरणा लेनी चाहिए कि आज के दौर में लोग निराश होकर आत्महत्या जैसे कदम उठाते हैं। ऐसे में नरेश का यह वीडियो देखने लायक है। 
PunjabKesari
पैर गंवाने के बाद भी नरेश में आलस नाम की चीज़ नहीं- फैक्ट्री मालिक
ट्रेन हादसे में रेलवे के द्वारा जो आर्थिक मदद मिली थी वह पैसा उसके इलाज में खर्च हो गया। नरेश अब मेहनत मजदूरी करके अपना पालन पोषण कर रहा है। उसकी एक मांग है कि सरकारी नौकरी मिल जाए तो उसका भला हो जाएगा। सरकार से उसे कोई आर्थिक मदद नहीं मिली है, जिस फैक्ट्री में नरेश कार्य करता है।

उस फैक्ट्री के मालिक भी दिव्यांग हैं। उन्होंने बताया कि मैं नरेश में अपने आपको देखता हूं फैक्ट्री मालिक ने कहा कि लोग अच्छे खासे होने के बावजूद भी काम नहीं करते हैं और नरेश एक पैर गंवाने के बाद भी आलास नाम की चीज़ नहीं देखी गई। बहुत मेहनत से कार्य करता है। 

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close