google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
आध्यात्मउत्तर प्रदेशजन्मदिनताजी ख़बरेंमथुरा

751 किलो औषधीय पंचामृत से राधारमण का अभिषेक हुआ

ब्रजनंदन पांडेय की रिपोर्ट

मथुरा। श्री कृष्ण की नगरी मथुरा और वृंदावन में उनके जन्मोत्सव की पूरी तैयारी हो चुकी है। देश के कोने-कोने से बड़ी संख्या में श्रद्धालु मथुरा पहुंच चुके हैं। मान्यता है कि वृंदावन में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म दोपहर में हुआ था। इसलिए यहां दिन में ही भगवान का अभिषेक चल रहा है। मथुरा व अन्य जगहों पर रात 12 बजे कृष्ण कन्हैया का जन्म होगा।

शाम तीन बजे तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी वृंदावन पहुंच जाएंगे। कोरोना के चलते इस बार कुछ नियमों का भी पालन करना होगा। मसलन इस बार मंदिरों से श्रद्धालुओं को प्रसाद नहीं दिया जाएगा।

वृंदावन में भगवान का अभिषेक हुआ

वृंदावन में कान्हा का अभिषेक किया जा रहा है।
(वृंदावन में कान्हा का अभिषेक किया जा रहा है)

भगवान राधा कृष्ण की नगरी वृंदावन के मंदिरों में दिन में ही भगवान का अभिषेक किया जा रहा है। यहां के प्रमुख सप्त देवालयों राधारमण, राधा दामोदर, शाह बिहारी जी में शंख और घंटे घड़ियाल की ध्वनि के बीच भगवान का पंचामृत अभिषेक किया गया ।

ठाकुर राधारमण मंदिर में सेवायतों की ओर से औषधियों से निर्मित 751 किलो पंचामृत से अभिषेक किया गया। इस दौरान पूरा मंदिर परिसर ठाकुर राधारमण लाल के जयकारों से गूंज उठा। प्राचीन शाहजी मंदिर मे सेवायत गोस्वामियों ने ठाकुर जी का दूध, दही, शहद, बूरा, इत्र से महाभिषेक किया। द्वारिकाधीश मंदिर में भी पूरे विधि विधान से भगवान का अभिषेक किया गया। यहां सेवायतों ने मंदिर के पट खुलते ही सुबह भगवान द्वारकाधीश का पंचामृत अभिषेक किया ।

भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक करते हुए पुजारी।
(भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक करते हुए पुजारी)
मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर नगाड़ा बजाते उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा।
(मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर नगाड़ा बजाते उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा)
श्री कृष्ण के मंदिरों को खूबसरत तरीके से सजाया गया है।
(श्री कृष्ण के मंदिरों को खूबसरत तरीके से सजाया गया है)

मुख्यमंत्री करेंगे श्री कृष्ण जन्मस्थान के दर्शन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर भगवान की जन्मस्थली मथुरा आ रहे हैं। यहां करीब 2 घंटे तक वह पूजा करेंगे। बृज तीर्थ विकास परिषद की ओर से आयोजित श्री कृष्ण उत्सव कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री शाम करीब तीन बजे वृंदावन पहुंच जाएंगे।

मंदिर, चौराहे और सड़कों को सजाया गया

वृंदावन और मथुरा की सभी मंदिरों को लाइटों से सजाया गया है।
(वृंदावन और मथुरा की सभी मंदिरों को लाइटों से सजाया गया है)

बृज मंडल में जबरदस्त उल्लास है। क्योंकि आज रात्रि में भगवान श्रीकृष्ण स्वयं अवतार लेने वाले हैं। इसलिए हर कोई उनके जन्माभिषेक की एक झलक पाने को लालायित है। कान्हा का स्वागत करने के लिए गोवर्धन चौराहा, भूतेश्वर तिराहा, छटीकरा तिराहे सहित तमाम चौराहों को रंगीन कपडों, लाइटों और बाल लीला झांकियों से सजाया गया है।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान, द्वारिकाधीश मन्दिर, प्रेम मंदिर, बांके बिहारी मंदिर, रंगजी समेत तमाम छोटे-बडे़े और घरेलू मन्दिरों में भव्य सजावट की गई है। क्योंकि, दो साल बाद बृज मंडल में कोरोना भयमुक्त जन्माष्टमी मनाई जा रही है। इसलिए श्रद्धालुओं से मथुरा-वृंदावन शहर अट गए हैं।

होटल्स, धर्मशाला और गेस्ट हाउस फुल

हजारों की संख्या में श्रद्धालु मथुरा और वृंदावन पहुंच गए हैं। यहां मंदिरों के बाहर देर रात तक भीड़ जुटी रही।
हजारों की संख्या में श्रद्धालु मथुरा और वृंदावन पहुंच गए हैं। यहां मंदिरों के बाहर देर रात तक भीड़ जुटी रही।

शहर में करीब 750 होटल, धर्मशाला और गेस्ट हाउस समेत करीब 10 हजार से ज्यादा फ्लैटों में सभी रूम फुल हैं। श्रीकृष्ण जन्म भूमि ट्रस्ट के सचिव कपिल शर्मा का कहना है कि इस साल 25 लाख से ज्यादा लोगों के आने की उम्मीद है। क्योंकि कोरोना की वजह से पिछले साल जन्माष्टमी पर सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हुआ था। इसलिए अब राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, दिल्ली से बड़ी संख्या में तीर्थयात्री आ रहे हैं।

Tags

samachar

"ज़िद है दुनिया जीतने की" "हटो व्योम के मेघ पंथ से स्वर्ग लूटने हम आते हैं"
Back to top button
Close
Close