google.com, pub-2721071185451024, DIRECT, f08c47fec0942fa0
बिहार

बेरोजगारों को 5000 रुपये भत्ता देने की गई मांग

जे.पी.श्रीवास्तव की रिपोर्ट

बिहार में बेरोजगारी की गंभीर स्थिति पर चिंता जताते हुए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान एनडीए सरकार के सहयोगी जीतन राम मांझी ने नीतीश कुमार को ट्वीट कर बेरोजगारों को 5000 रुपये प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने की मांग की है।

उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी के कारण लाॅकडाउन में बेरोजगारों की आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है।

ऐसी स्थिति में उन्हें तत्काल राहत देने के लिए बेरोजगारी भत्ता कम-से-कम 5000 रुपये प्रतिमाह मिलनी चाहिए। बताते चलें कि जीतन राम मांझी हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख हैं तथा बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

उनका कहना है कि पिछले विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में पांच हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता देने की बात की थी।

पिछले दिनों जीतन राम मांझी ने केन्द्र सरकार पर बिहार के साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए कहा था कि केन्द्र बिहार को कई योजनाओं का पैसा नहीं दे रही है जिस कारण बिहार का विकास रुका हुआ है।

उन्होंने नीतीश कुमार का तारीफ करते हुए कहा कि बिहार में जो भी विकास का कार्य, शिक्षकों के वेतन भुगतान का कार्य, ग्रामीण क्षेत्रों में डाॅक्टरों की नियुक्ति का कार्य सभी बिना केन्द्र सरकार के मदद के कर रहे हैं देखने वाली बात है कि हम पार्टी बिहार में एनडीए का घटक दल है और बिहार सरकार में शामिल भी है।

ऐसे में बेरोजगार भत्ता देने की बात हो या केन्द्र द्वारा बिहार के साथ भेदभाव  बरतने का आरोप यह किस दिशा में बिहार को ले जा रहा है।

Back to top button
Close
Close